ALL देश/विदेश यूपी राजनीति ज्योतिष/धर्म स्पोर्ट्स विशेष
दुश्मनी और नफरत को मिटाने के लिए................
December 5, 2019 • पंकज द्विवेदी ,उरई • यूपी

जश्ने-अदब आल इंडिया मुशायरा/कवि सम्मेलन वेदिका उत्सव गृह में हुआ सम्पन्न 

उरई। दुश्मनी और नफरत को मिटाने के लिए, मेरा पैगाम मोहब्बत है जमाने के लिए। यह बात कोंच रोड स्थित वेदिका उत्सव गृह में आयोजित जश्ने अदब ऑल इंडिया मुशायरा/कवि सम्मेलन को संबोधित करते हुए शायर फरीद अली वशर ने कहीं।

शहर क्षेत्र के अंतर्गत कोच रोड वेदिका गेस्ट हाउस में कवि सम्मेलन/मुशायरा के प्रोग्राम का आयोजन किया गया। जिसमें देश के कोने-कोने से कवि/शायर सम्मिलत हुए। जिसमें डा.विष्णुदत्त पांडेय, डा.अनुज मलिक दिल्ली, डा.गंभीर दिल्ली, अब्दुल रहमान, सुभाष पाठक, जिया शिवशरण बंधु, अनुज, सचिन, ज्ञानेन्द्र सिंह राजावत मप्र, जुवैर अंसारी लखनऊ, पंकज सिंह, संजय शौक आदि कवि/शायर सम्मिलत हुए। कार्यक्रम में कविताओं/शायरी के शौकीन दर्शको से कार्यक्रम स्थल खचाखच भरा रहा। कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला विद्यालय निरीक्षक भगवत पटेल ने की। संचालन डा.रेनु चंद्रा ने किया। कार्यक्रम आयोजक उरई के मशहूर शायर फरीद अली वशर व समाजसेवी मनोज कुमार दिवाकर ने करवाया।

डा.अनुज मलिक दिल्ली ने पढ़ा कि क्यों ओढ़ाते हो चादरें दर्दमंदो, तुम इन्है डालों, मुर्दा जिस्मों को होती सर्दी कहा, ठंड से सिकुडते बच्चों पे डालो। मैं तो कब का हुआ हूं मिटटी का चादरे न अब मिटटी पे डालो, मुझको फूलो की नहीं ख्वाहिश है तोड इनको न शाख से डालो। संजय शौक शायर ने सुनाया कि मेरे खुदा मेरे हाथों में वो हुनर दे दे, मै जिससे हाथ मिलाऊ उसके सारे गम ले लु। इस मौके पर सुशील चौधरी, रामअवगतार बीजापुर, मनोज कुमार, संजीव त्यागी, विवेक मिश्रा, परवेज अख्तर, पुष्पेन्द्र पुष्प, शिवम सोनी, रामनरेश पाल, नूर मोहम्मद सर, अशोक होतवानी, इमरान भारती आदि रहेंं।